Maharashtra Medical Admission Process New update

Medical Admission Quota: The Maharashtra government on Tuesday scrapped the 70:30 formula for regional reservation for admission in medical courses in the state. Under this formula, 70 per cent of seats in medical colleges were reserved for local students (from the same region) and the remaining 30 per cent were for the students of the rest of the state.

Making a declaration in the Assembly, Medical Education Minister Amit Deshmukh said that now students will be admitted on the basis of their NEET Exam Result. The minister said, ‘Instead of the 70: 30 formula, now’ one Maharashtra, one merit ‘formula will be applicable.’

नीट परीक्षा के आयोजन से पहले महाराष्ट्र सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है. इसके अनुसार अब मेडिकल कोर्सेज में महाराष्ट्र ने 70:30 एडमिशन कोटा हटा दिया है. पढ़ें पूरी डिटेल..

मेडिकल यूजी कोर्सेस में एडमिशन के लिए देशभर में नीट 2020 (NEET 2020) का आयोजन 13 सितंबर 2020 को होने जा रहा है। इस परीक्षा में सबसे ज्यादा उम्मीदवार महाराष्ट्र से शामिल होने जा रहे हैं। इस बीच महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Govt) ने राज्य के मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के संबंध में बड़ी घोषणा की है।

महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को राज्य में चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए 70:30 रीजनवाइज फॉर्मूला तैयार किया. इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक राज्य विधानसभा में एक घोषणा करते हुए, चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख ने कहा है कि मेड‍िकल यूजी कोर्स में अब प्रवेश राष्ट्रीय सह पात्रता प्रवेश परीक्षा (NEET) के रिजल्ट पर आधारित होगा. मंत्री ने कहा कि अब 70:30 कोटा के बजाय ‘एक महाराष्ट्र, एक योग्यता’ होगा.
बता दें कि अब तक मेडिकल कॉलेजों में 70 फीसदी स्थानीय (उस क्षेत्र से) और बाकी राज्यों से 30 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था थी. बता दें कि स्टूडेंट्स और पैरेंट्स लंबे समय से मेडिकल कोर्सेस में एडमिशन के लिए बने इस 70:30 फॉर्मूला को खत्म करने की मांग कर रहे थे.
क्या था 70:30 फॉर्मूला
यह राज्य के अंदर लागू रीजन वाइज आरक्षण कोटा था। इसके तहत किसी रीजन के मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन में वहां के स्थानीय लोगों के लिए 70 फीसदी सीटें आरक्षित होती थीं। बची हुईं 30 फीसदी सीटों पर राज्य के अन्य क्षेत्रों के स्टूडेंट्स को एडमिशन मिल पाता था।

By JobSeva

Leave a Reply

Your email address will not be published.